जनंसख्या

 जनंसख्या

  • किसी समय निश्चित क्षेत्र में निवास करने वाली कुल मानव संख्या जनसंख्या कहलाती है।

  • जनसंख्या का निर्धारण जनगणना के आधार पर किया जाता है।

  • प्राचीन काल में जनगणना के लिखित साक्ष्य मेगस्थनीज की इण्डिका व कौटिल्य की अर्थशास्त्र और अबुल फजल की ‘आइन-ए-अकबरी’ में मिलते हैं।

  • भारत में प्रथम जनगणना 1872 ई. में लार्ड मेयो के काल में हुई थी परंतु व्यवस्थित या दशकीय जनगणना की शुरुआत सन् 1881 में लार्ड रिपन के समय प्रारंभ हुई, तत्पश्चात् 1891 ई. से हर दस वर्ष के उपरान्त जनगणना आयोजित की जाती है।

  • भारत में प्रथम जातिगत जनगणना वर्ष 1931 में प्रारंभ की गई एवं दूसरी नवम्बर, 2011 से प्रारंभ की गई।

  • भारत में जनणगना संघ सूची का विषय है जो संविधान की सातवीं अनुसूची में उल्लेखित संघ सूची के क्रम संख्या 69 पर दर्ज है। जनगणना आयोजन का संवैधानिक आधार भारतीय जनगणना अधिनियम वर्ष 1948 के तहत बनाया गया ।

  • राजस्थान देश में आन्ध्र प्रदेश तथा मध्य प्रदेश के बाद जनसंख्या नीति की घोषणा करने वाला तीसरा राज्य है। राजस्थान सरकार ने वर्ष 2000 में जनसंख्या नीति की घोषणा की।

  • जनगणना वर्ष 2011 का ध्येय वाक्य ‘हमारी जनगणना, हमारा भविष्य’ है।

राजस्थान की जनंसख्या का आकार:-

  • राजस्थान की कुल जनसंख्या 2011 की जनगणना के अंतिम आँकड़ों के अनुसार 6,85,48,437 (लगभग 8.86 करोड़) है। वर्ष 2011 की जनगणना की अपेक्षा इसमें 21.30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

  • राजस्थान की जनसंख्या 2011 में  भारत की कुल जनसंख्या का 5.66 प्रतिशत तथा विश्व की कुल जनसंख्या का 1 प्रतिशत भाग है।

  • जनसंख्या की दृष्टि से राज्य का देश में 8वाँ स्थान है। अन्य सात राज्य- उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, पश्चिमी बंगाल, आंध्रप्रदेश, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु और 9वाँ राज्य कर्नाटक तथा 10वाँ राज्य गुजरात है।

  • 2 जून, 2014 को आन्ध्रप्रदेश से तेलंगाना का पृथक राज्य बन जाने के बाद राजस्थान का देश में 7वाँ स्थान रह गया है।

  • UNO रिपोर्ट के अनुसार, विश्व की जनसंख्या 31 अक्टूबर, 2011 को 7 अरब हो गई।

  • विश्व जनसंख्या दिवस 11 जुलाई को प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

  • विश्व में दशकीय जनगणना की शुरुआत संयुक्त राज्य अमेरिका में हुई।

  • राजस्थान में प्रथम जनगणना वर्ष 1901 में शुरू हुई।

  • स्वतंत्र भारत की प्रथम जनगणना वर्ष 1951 में हुई।

  • वर्तमान राजस्थान में प्रथम जनगणना वर्ष 1961 में हुई।

  • जनगणना 2011 भारत के जनगणना इतिहास की 15वीं जनगणना थी। (1872 से)

  • भारत की जनगणना इतिहास की 14वीं दशकीय जनगणना थी। (1881 से)

  • स्वतंत्र भारत की 7वीं जनगणना। (1951 से)

  • जनगणना गृह मंत्रालय के अधीन जनगणना आयुक्त एवं महापंजीयन कार्यालय का उत्तरदायित्व हैं।

  • भारत के प्रथम जनगणना आयुक्त W.C. प्लाउडेन थे।

  • राज्य स्तर पर जनगणना आयुक्त के सहयोग हेतु जनगणना निदेशक तथा जिला स्तर पर जनगणना का उत्तरदायित्व जिला जनगणना अधिकारी (जिला कलेक्टर) होता है।

  • 15वीं जनगणना 2011 के अनुसार सी. चन्द्रमौलि को जनगणना आयुक्त बनाया गया।

  • 15वीं जनगणना 2011 के अनुसार राज्य स्तर पर राजस्थान में जनगणना निदेशक डॉ. शुभ्रासिंह को बनाया गया।

  • 15वीं जनगणना 2011 का शुभंकर ‘शिक्षित प्रगणिका’ को बनाया गया।

  • 15वीं जनगणना 2011 में थर्ड जेण्डर को अलग रखा गया।

15 वीं जनगणना 2011 के अनुसार:-

– राजस्थान की कुल जनसंख्या 6,85,48,437 (लगभग 6.86 करोड़) जिसमें 3.55 करोड़ (51.86%) पुरुष तथा 3.29  करोड़ (48.14%) महिला हैं।

– राजस्थान का जनसंख्या की दृष्टि से भारत में 8वाँ स्थान था जो वर्तमान में जनसंख्या की दृष्टि से राजस्थान का भारत में 7वाँ स्थान है।

– राजस्थान की जनसंख्या को दो भागों में विभाजित किया गया है-

(i) ग्रामीण जनसंख्या:– राजस्थान की कुल जनसंख्या का 75.10% भाग ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करती है।

(ii) शहरी जनसंख्या:– राजस्थान की कुल जनसंख्या का 24.9% भाग शहरों में निवास करती है।

– राजस्थान में पुरुष जनसंख्या का 51.86 प्रतिशत थी।

– राजस्थान में महिला जनसंख्या का 48.14 प्रतिशत थी।

राजस्थान का जनघनत्व:-

– राजस्थान का जनघनत्व – 200 व्यक्ति प्रति वर्ग कि.मी. है।

– राजस्थान का भारत में जनसंख्या घनत्व की दृष्टि से 18वाँ स्थान है।

– राजस्थान की दशकीय वृद्धि दर 21.3% है।

– राजस्थान की दशकीय वृद्धि की दृष्टि से भारत में 8वाँ स्थान है।

– राजस्थान का लिंगानुपात 928 है।

– राजस्थान का लिंगानुपात की दृष्टि से भारत में 21वाँ स्थान है।

– राजस्थान का शिशु लिंगानुपात 888 है।

– राजस्थान की साक्षरता 66.1 प्रतिशत है। भारत में राजस्थान का साक्षरता में 26वाँ स्थान है।

–  राजस्थान की पुरुष साक्षरता 79.2 प्रतिशत है तथा महिला साक्षरता 52.1 प्रतिशत है।

– राजस्थान में शिशु मृत्यु दर 47 प्रतिशत है तथा राजस्थान का शिशु मृत्यु दर की दृष्टि से भारत में तीसरा स्थान है।

– राजस्थान में मातृ मृत्यु दर 244 है तथाराजस्थान का मातृ मृत्युदर की दृष्टि से भारत में तीसरा स्थान है।

– राजस्थान में अनुसूचित जाति 17.8%, अनुसूचित जनजाति 13.5% और कार्यशील जनसंख्या 43.6% है।

राजस्थान में जनसंख्या वितरण:-

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या

1.

जयपुर

66,26,178

2.

जोधपुर

36,87,165

3.

अलवर

36,74,179

4.

नागौर

33,07,743

5.

उदयपुर

30,68,420

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या

1.

जैसलमेर

6,69,919

2.

प्रतापगढ़

8,67,848

3.

सिरोही

10,36,346

4.

बूँदी

11,10,906

5.

राजसमंद

11,56,597

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक पुरुष जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या (लाख में)

1.

जयपुर

66,26,178

2.

जोधपुर

36,87,165

3.

अलवर

36,74,179

4.

नागौर

33,07,743

5.

उदयपुर

30,68,420

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम पुरुष जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या (लाख में)

1.

जैसलमेर

6,69,919

2.

प्रतापगढ़

8,67,848

3.

सिरोही

10,36,343

4.

बूँदी

11,10,906

5.

राजसमंद

11,56,597

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक महिला जनसंख्या वाले जिले-

  1. जयपुर

  2. जोधपुर

  3. अलवर

  4. नागौर

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम महिला जनसंख्या वाले जिले-

  1. जैसलमेर

  2. प्रतापगढ़

  3. सिरोही

  4. बूँदी

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक ग्रामीण जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या

1.

जयपुर

31,54,331

2.

अलवर

30,19,728

3.

नागौर

26,70,539

4.

उदयपुर

24,59,994

5.

जोधपुर

24,22,551

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम ग्रामीण जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या

1.

जैसलमेर

5,80,894

2.

कोटा

7,74,410

3.

प्रतापगढ़

7,96,041

4.

सिरोही

8,27,692

5.

बूँदी

8,88,205

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक शहरी जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या

1.

जयपुर

34,71,847

2.

जोधपुर

12,64,614

3.

कोटा

11,76,604

4.

अजमेर

10,35,410

5.

बीकानेर

8,00,384

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम शहरी जनसंख्या वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या

1.

प्रतापगढ़

71,807

2.

डूँगरपुर

88,743

3.

जैसलमेर

89,025

4.

बाँसवाड़ा

1,27,621

5.

जालोर

1,51,755

– राजस्थान में सर्वाधिक ग्रामीण जनसंख्या का प्रतिशत डूँगरपुर (93.6%) जिले में है।

– राजस्थान में सर्वाधिक शहरी जनसंख्या का प्रतिशत कोटा (60.3%) जिले में है।

– राजस्थान में न्यूनतम ग्रामीण जनसंख्या का प्रतिशत कोटा (39.7%) जिले में है।

– राजस्थान में न्यूनतम शहरी जनसंख्या का प्रतिशत डूँगरपुर (6.4%) जिले में है।

राजस्थान में जनघनत्व:-

– राजस्थान में जनघनत्व 200 व्यक्ति/वर्ग कि.मी. है।

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक जनघनत्व वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या घनत्व

1.

जयपुर

595

2.

भरतपुर

503

3.

दौसा

476

4.

अलवर

438

5.

धौलपुर

398

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम जनघनत्व वाले-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या घनत्व

1.

जैसलमेर

17

2.

बीकानेर

78

3.

बाड़मेर

92

4.

चूरू

147

5.

जोधपुर

161

राजस्थान में जनसंख्या वृद्धि दर:-

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक जनसंख्या वृद्धि दर वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

वृद्धि दर (% में)

1.

बाड़मेर

32.5%

2.

जैसलमेर

31.8%

3.

जोधपुर

27.7%

4.

बाँसवाड़ा

26.5%

5.

जयपुर

26.2%

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम जनसंख्या वृद्धि दर वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

वृद्धि दर (% में)

1.

श्रीगंगानगर

10.0%

2.

झुंझुनूँ

11.7%

3.

पाली

11.9%

4.

बूँदी

15.4%

5.

चित्तौड़गढ़

16.9%

– राजस्थान के राजसंमद जिले की जनसंख्या वृद्धि दर (17.7%) राष्ट्रीय जनसंख्या वृद्धि (17.7%) के बराबर है।

– राजस्थान के जनगणना इतिहास में सर्वाधिक जनसंख्या वृद्धि दर (1997-1981 – 32.97%) दर्ज की गई।

– राजस्थान की जनगणना में न्यूनतम जनसंख्या वृद्धि दर (1911-1921 – 6.29%) दर्ज की गई।

राजस्थान में लिंगानुपात:-

– 2011 की जनगणना के अनुसार राजस्थान में लिंगानुपात (928 महिला : 1000 पुरुष) है।

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक लिंगानुपात वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

लिंगानुपात

1.

डूँगरपुर

994

2.

राजसंमद

990

3.

पाली

987

4.

प्रतापगढ़

983

5.

बाँसवाड़ा

980

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम लिंगानुपात वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

लिंगानुपात

1.

धौलपुर

846

2.

जैसलमेर

852

3.

करौली

861

4.

भरतपुर

880

5.

श्रीगंगानगर

887

राजस्थान में शिशु लिंगानुपात:- (888)

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक शिशु लिंगानुपात वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

लिंगानुपात

1.

बाँसवाड़ा

934

2.

प्रतापगढ़

933

3.

भीलवाड़ा

928

4.

उदयपुर

924

5.

डूँगरपुर

922

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम शिशु लिंगानुपात वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

लिंगानुपात

1.

झुंझुनूँ

837

2.

सीकर

848

3.

करौली

582

4.

श्रींगगानगर

854

5.

धौलपुर

857

राजस्थान की साक्षरता दर:-

– राजस्थान की साक्षरता दर 66.1% है।

– जनगणना 2011 के अनुसार राजस्थान में सर्वाधिक साक्षरता दर वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

साक्षरता दर (% में)

1.

कोटा

76.6%

2.

जयपुर

75.5%

3.

झुंझुनूँ

74.1%

4.

सीकर

71.9%

5.

अलवर

70.7%

– जनगणना 2011 के अनुसार राजस्थान में न्यूनतम साक्षरता दर वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

साक्षरता दर (% में)

1.

जालोर

54.9%

2.

सिरोही

53.3%

3.

प्रतापगढ़

56.0%

4.

बाँसवाड़ा

56.3%

5.

बाड़मेर

56.5%

राजस्थान में पुरुष साक्षरता:-

– राजस्थान में पुरुष साक्षरता 79.2% है।

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार सर्वाधिक पुरुष साक्षरता वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

साक्षरता दर (% में)

1.

झुंझुनूँ

86.9%

2.

कोटा

86.3%

3.

जयपुर

86.1%

4.

सीकर

85.1%

5.

भरतपुर

84.1%

– राजस्थान 2011 के अनुसार राजस्थान में न्यूनतम पुरुष साक्षरता वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

साक्षरता दर (% में)

1.

प्रतापगढ़

69.5%

2.

बाँसवाड़ा

69.5%

3.

सिरोही

70.0%

4.

जालोर

70.7%

5.

बाड़मेर

70.9%

राजस्थान में महिला साक्षरता:-

– जनगणना 2011 के अनुसार राजस्थान में महिला साक्षरता 52.1% है।

– जनगणना 2011 के अनुसार राजस्थान में सर्वाधिक महिला साक्षरता वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

साक्षरता दर (% में)

1.

कोटा

65.9%

2.

जयपुर

64.0%

3.

झुंझुनूँ

61.0%

4.

श्रीगंगानगर

59.7%

5.

सीकर

58.2%

– राजस्थान में जनगणना 2011 के अनुसार राजस्थान में न्यूनतम महिला साक्षरता वाले जिले-

क्र.सं.

जिले

साक्षरता दर (% में)

1.

जालोर

38.5%

2.

जैसलमेर

39.7%

3.

सिरोही

39.7%

4.

बाड़मेर

40.6%

5.

प्रतापगढ़

42.2%

शिशु मृत्यु दर (47):-

– एक हजार जीवित जन्म पर नवजात, एक वर्ष या उससे कम आयु के शिशु की मृत्यु, शिशु मृत्यु दर कहलाती है।

मातृ मृत्युदर:- (244)

– एक लाख जीवित जन्म पर माताओं की मृत्यु, मातृ मृत्युदर कहलाती है।

शिशु जनसंख्या:-

  • राजस्थान जनगणना 2011 के संशोधित आँकड़ों के अनुसार 0-6 आयु वर्ग की कुल जनसंख्या 1.06 करोड़ है जो राज्य की कुल जनसंख्या 15.5% है।
  • 0-6 आयु वर्ग की जनसंख्या जयपुर – 9.29 लाख तथा न्यूनतम जनसंख्या जैलमेर में 1.30 लाख है।

सर्वाधिक शिशु जनसंख्या वाले जिले:-

क्र.सं.

जिले

कुल जनसंख्या

1.

जयपुर

9, 29,926

2.

जोधपुर

6,06,490

3.

अलवर

5,87,959

4.

उदयपुर

5,08,550

5.

नागौर

5,07,176

न्यूनतम शिशु जनसंख्या वाले जिले:-

क्र.सं.

जिले

कुल जनसंख्या

1.

जैसलमेर

1,30,463

2.

प्रतापगढ़

1,50,518

3.

बूँदी

1,59,884

4.

सिरोही

1,73,364

5.

राजसंमद

1,76,041

सर्वाधिक अनुसूचित जाति वाले जिले:-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या (% में)

1.

श्रीगंगानगर

36.58

2.

हनुमानगढ़

27.85

3.

करौली

22.28

4.

चूरू

22.15

5.

भरतपुर

21.87

न्यूनतम अनुसूचित जाति वाले जिले:-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या (% में)

1.

डूँगरपुर

3.36

2.

बाँसवाड़ा

4.46

3.

उदयपुर

6.14

4.

प्रतापगढ़

6.96

5.

राजसमंद

12.81

 

  • राज्य की कुल अनुसूचित जाति की जनसंख्या 122.21 लाख है।
  • राज्य में अनुसूचित जाति जनसंख्या अनुपात 17.08% है।
  • राज्य में सर्वाधिक अनुसूचित जनसंख्या वाला जिला जयपुर (10.03 लाख) है।
  • राज्य में ग्रामीण जनसंख्या में अनुसूचित जाति का 18.5% है और शहरी जनसंख्या में अनुसूचित जाति का 15.7% है।
  • राज्य में अनुसूचित जाति का लिंगानुपात 923 एवं अनुसूचित जाति का ग्रामीण लिंगानुपात 923 और अनुसूचित जाति का शहरी लिंगानुपात 922 हैं।
  • राज्य में अनुसूचित जाति का सर्वाधिक लिंगानुपात वाला जिला राजसमंद (982) एवं न्यूनतम लिंगानुपात वाला जिला धौलपुर (863) है।

सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति वाले जिले:-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या (% में)

1.

बाँसवाड़ा

76.38

2.

डूँगरपुर

70.82

3.

प्रतापगढ़

63.42

4.

उदयपुर

49.71

5.

सिरोही

28.22

न्यूनतम अनुसूचित जनजाति वाले जिले:-

क्र.सं.

जिले

जनसंख्या (% में)

1.

बीकानेर

0.33

2.

नागौर

0.31

3.

चूरू

0.55

4.

श्रीगंगानगर

0.68

5.

हनुमानगढ़

0.81

 

  • राज्य में अनुसूचित जनजाति जनसंख्या 92.38 लाख है एवं इसका प्रतिशत 13.5% है।
  • राज्य में अनुसूचित जनजाति का लिंगानुपात 948 है।
  • राज्य में ग्रामीण अनुसूचित जनजाति का लिंगानुपात 951 है और शहरी अनुसूचित जनजाति का लिंगानुपात 893 है।
  • राज्य में सर्वाधिक लिंगानुपात वाला जिला डूँगरपुर (1000) है और न्यूनतम लिंगानुपात वाला जिला धौलपुर (842) है।

धार्मिक जनसंख्या:-

  • राजस्थान में वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार कुल धार्मिक जनसंख्या 685.48 लाख, जिनमें से-

क्र.सं.

धर्म

वर्ष 2011

1.

हिन्दू

6,06,57,103

2.

मुस्लिम

62,15,377

3.

ईसाई

96,430

4.

सिख

8,72,930

5.

जैन

6,22,023

6.

बौद्ध

12,185

7.

अन्य

4,676

8.

धर्म नहीं बनाया

67,713

हिन्दू जनसंख्या:-

  • 606.57 लाख है जो कुल धार्मिक जनसंख्या का 88.49% है।

हिन्दू जनसंख्या वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

1.

जयपुर

2.

जोधपुर

3.

अलवर

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

1.

जैसलमेर

2.

प्रतापगढ़

3.

सिरोही

हिन्दू जनसंख्या प्रतिशत वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

दौसा

96.81

2.

डूँगरपुर

96.53

3.

सिरोही

96.16

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

श्रीगंगानगर

72.98

2.

जैसलमेर

74.19

3.

हनुमानगढ़

80.75

मुस्लिम जनसंख्या:-

  • यह 62.15 लाख है जो कुल धार्मिक जनसंख्या का 9.07% है।

मुस्लिम जनसंख्या वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

1.

जयपुर

2.

अलवर

3.

नागौर

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

1.

प्रतापगढ़

2.

डूँगरपुर

3.

सिरोही

मुस्लिम जनसंख्या प्रतिशत वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

जैसलमेर

25.10

2.

अलवर

14.90

3.

भरतपुर

14.57

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

डूँगरपुर

2.06

2.

श्रीगंगानगर

2.57

3.

बाँसवाड़ा

2.72

सिख जनसंख्या:-

  • यह 8.72 लाख है जो कुल धार्मिक जनसंख्या का 1.27% है।

सिख जनसंख्या वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

1.

श्रीगंगानगर

2.

हनुमानगढ़

3.

अलवर

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

1.

प्रतापगढ़

2.

जालोर

3.

डूँगरपुर

जैन जनसंख्या:-

  • यह 6.22 लाख है जो कुल धार्मिक जनसंख्या का 0.91% है।

जैन जनसंख्या वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

1.

जयपुर

2.

उदयपुर

3.

अजमेर

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

1.

श्रीगंगानगर

2.

धौलपुर

3.

बाराँ

जैन जनसंख्या प्रतिशत वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

उदयपुर

2.56

2.

अजमेर

1.77

3.

चित्तौड़गढ

1.67

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

झुंझुनूँ

0.88

2.

सीकर

0.15

3.

श्रीगंगानगर

0.10

ईसाई जनसंख्या:-

  • यह 96,430 है जो कुल धार्मिक जनसंख्या का 0.14% है।

ईसाई जनसंख्या वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

1.

बाँसवाड़ा

2.

जयपुर

3.

अजमेर

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

1.

प्रतापगढ़

2.

दौसा

3.

करौली

ईसाई जनसंख्या प्रतिशत वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

बाँसवाड़ा

1.24

2.

अजमेर

0.41

3.

कोटा

0.29

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

दौसा

0.03

2.

जालोर

0.04

3.

प्रतापगढ़

0.04

बौद्ध जनसंख्या:-

  • यह 12,185 है जो कुल धार्मिक जनसंख्या का 0.02% है।

बौद्ध जनसंख्या वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

1.

अलवर

2.

जयपुर

3.

श्रीगंगानगर

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

1.

प्रतापगढ़

2.

झालावाड़

3.

झुंझुनूँ

बौद्ध जनसंख्या प्रतिशत वाले जिले:-

सर्वाधिक

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

अलवर

0.12

2.

श्रीगंगानगर

0.05

3.

भरतपुर

0.04

न्यूनतम

क्र.सं.

जिले

प्रतिशत

1.

झुंझुनूँ

2.

झालावाड़

3.

प्रतापगढ़

 

Loading

Leave a Comment